ताबिश देहलवी | Tabish Dehalvi

Standard

बेक़रारी सी बेक़रारी है
दिन भी भारी था रात भारी है

ज़िन्दगी की बिसात पर अक्सर
जीती बाज़ी भी हमने हारी है

तोड़ो दिल मेरा शौक़ से तोड़ो
चीज़ मेरी नहीं तुम्हारी है

बार ऐ हस्ती उठा सका न कोई
ये ग़म ऐ दिल जहाँ से भारी है

आँख से छुप के दिल में बैठे हो
हाय कैसी ये पर्दादारी है

Tabish Dehlavi