मंसूर उस्मानी | Mansoor Usmani

Standard

हमारे जैसी किसी की उड़ान थोड़ी है
जहाँ हम हैं वहां आसमान थोड़ी है 

ग़ज़ल के शहर मे शायर हज़ार हैं लेकिन 
किसी का मीर से ऊँचा मकान थोड़ी है 

बिछड़ के तुझसे मेरी ज़िन्दगी है बेमकसद 
ये तेरा कौल था मेरा बयान थोड़ी है  Continue reading