हरमतुल इकराम | Harmatul Ikram

Standard

काफ़िले से मुझे रहने दो अलग
भीड़ में रूह बिखर जाती है

Harmatul Ikram